S.M.MAsoom

  • image01

    S.M.Masum"s Photo Blog

    Love for Nature and History

  • image02

    Friendly

    मारीशस सरकार की भोजपुरी स्पीकिगं यूनियन की चेयर मैन डा0 सरिता बुधू ने आज जौनपुर में एक कार्यक्रम में हिन्दी को विश्व स्तर पर प्रचार प्रसार करने वाले हमारा जौनपुर और पयाम ऐ अमन वेब साईट के संचालक एस एम् मासूम को सम्मानित किया।

  • image03

    Social Media Activist

    हमारा जौनपुर डॉट कॉम संचालक को जनपद का नाम रोशन करने के लिए पत्रकार रत्न से किया गया सम्मानित |

  • image04

    Insecure

    Jaunpur City in English

  • image05
  • image06

    World Peace

    Under guidence of Ahlulbayt

  • image07

    Voice of Jaunpur

    First website of Jaunpur in English

  • image08

    Guidence

    Guidence from Ahlulbayt in Hindi

Friday, March 18, 2016

केवल अपने परिवार को अपनी दुनिया न समझ लें?




आज एकल परिवार ये यकीन करने वालों का ज़माना है मैं मेरे मेरे पति/पत्नी और बच्चे और ऐसे लोग अपने परिवार वालों को ही अपनी दुनिया समझ लेते हैं |

ऐसे परिवार में बच्चे जब तक माता पिता के साथ रहते हैं तब तक तो उन्हें अपनी दुनिया समझते हैं लेकिन जैसे ही अपना घर बसाते हैं तो धीरे धीरे वो भी उसी राह पे चल पड़ते हैं जिसपे उनके माता पिता चले थे "मैं मेरे मेरे पति/पत्नी और मेरे बच्चे"

फिर यही माँ बाप पहले तो अपने बच्चों के घर में अनावश्यक रूप से हर बात में दखल देते नज़र आते है और अगर कामयाब हो गए तो बच्चों का घर बर्बाद होने लगता है या फिर अकेलेपन की शिकायत करते नज़र आते हैं की बच्चे अप अपने परिवार में मस्त हैं उन्हें पूछते ही नहीं|


भाई जो बोया है वही तो काटोगे? इसलिए कभी न भूलें एकल परिवार के बाहर भी एक दुनिया है जहां माता पिता भाई बहन, सास ससुर,साले बहनोई ,चाचा ,मामा ,दोस्त ,पडोसी इत्यादि भी रहते हैं उनका भी आप् पे अधिकार है |



  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

1 टिप्पणियाँ:

  1. I’ve been browsing on-line greater than three hours today, but I never discovered any attention-grabbing article like yours. It is beautiful worth sufficient for me. Personally, if all webmasters and bloggers made good content material as you did, the net will be a lot more helpful than ever before.

    Linux Training in Chennai

    ReplyDelete

Item Reviewed: केवल अपने परिवार को अपनी दुनिया न समझ लें? 9 out of 10 based on 10 ratings. 9 user reviews.
Scroll to Top